दि‍वाली पर कविता – Poem on Diwali in Hindi

loading...

दोस्तों आज हम आपके साथ दिवाली पर लिखी गई सर्वश्रेष्ठ कविताएं शेयर करने जा रहे है

दिवाली हिंदुओं का प्रमुख त्यौहार है दिवाली इसलिए मनाई जाती है क्योंकि इस दिन भगवान श्री राम 14 वर्ष का वनवास काटकर अयोध्या लौटे थे और इस खुशी में अयोध्या वासियों ने उनके स्वागत में दीपक जलाए थे और फूलों की वर्षा की थी.

विषय-सूची

                                                                  

इन कविताओं के माध्यम से हमने दिवाली का त्यौहार वर्णन किया है. हम ने कविताएं सरल शब्दों में लिखने का प्रयास किया है जिससे छोटे बड़े सभी व्यक्ति इन कविताओं को आसानी से समझ पाए और आप सभी को दि‍वाली की शुभकामनाएं

………………………………………………………………………………………………………………





1.

दीपावली का त्योहार आया,
साथ में खुशियों की बहार लाया।
दीपको की सजी है कतार,
जगमगा रहा है पूरा संसार।
अंधकार पर प्रकाश की विजय लाया,
दीपावली का त्योहार आया।
सुख-समृद्धि की बहार लाया,
भाईचारे का संदेश लाया।
बाजारों में रौनक छाई,
दीपावली का त्योहार आया।
किसानों के मुंह पर खुशी की लाली आयी,
सबके घर फिर से लौट आई खुशियों की रौनक।
दीपावली का त्यौहार आया,
साथ में खुशियों की बहार लाया।
…………………………………………………………………………………………………


 2.
               
हो रहा है नई ऋतु का आगमन
मौसम में घुल रही है गुलाबी ठंडक,
देखो देखो दीपावली का पावन अवसर आया।
मां लक्ष्मी सबके घर पधार रही है
लेकर सुख समृद्धि और खुशियों की माला,
देखो देखो दीपावली का पावन अवसर आया।
बच्चे बूढ़े सभी कर रहे हंसी ठिठोली
चारों और खुशियों की लहर फैल रही है,
देखो देखो दीपावली का पावन अवसर आया।
चहु और खुशियों के दीपक की लो जल रही है
चारों ओर ढोल पतासे पटाखे फूट रहे है,
देखो देखो दीपावली का पावन अवसर आया।
बाजारों की उदासी हो गई है गुल
सब लोग खरीद रहे है नए वस्त्र व आभूषण,
देखो देखो दीपावली का पावन अवसर आया।

बुराई पर अच्छाई की जीत हुई है
श्री राम अयोध्या को लौट रहे है,
देखो देखो दीपावली का पावन अवसर आया।
बच्चों की आंखों में एक अलग चमक है
मिठाइयां खा कर सब लोग झूम रहे है,
देखो देखो दीपावली का पावन अवसर आया।
………………………………………………………………………………………………


3.

      खेतों ने ओढ़ ली है धानी चादर
भूमि पुत्र भी मंद मंद मुस्का रहा है,
दीपावली का शुभ दिन आ रहा है।
मौसम भी करवट बदल रहा है
सर्द ऋतु का आगाज हो रहा है,
दीपावली का शुभ दिन आ रहा है।
चंचल मन हर्षा रहा है
दीपों का त्यौहार आ रहा है,
दीपावली का शुभ दिन आ रहा है।
सब लोग मंगल गीत गा रहे है
ढोल पतासे और घंटियां बजा रहे है,
दीपावली का शुभ दिन आ रहा है।
प्रकृति हो रही है भाव विभोर
चहु खुशियों की लहर उठ रही है,
दीपावली का शुभ दिन आ रहा है।
सब मिलजुल कर घर से जा रहे है
मां लक्ष्मी भी कृपा बरसा रही है,
दीपावली का शुभ दिन आ रहा है।
………………………………………………………………………………………………………………..


4.
आज दिन दिवाली का आया
लेकर खुशियों की टोकरी,
महालक्ष्मी सब के घर पधार रही है।
आज दिन दिवाली का आया
आज की काली रात भी हैरान है,
दीपों की रोशनी से पूरा संसार रोशन है।
आज दिन दिवाली का आया
रिद्धि सिद्धि को भी संग में लाया,
भर गया है घर खुशियों से सबका।
आज दिन दिवाली का आया
संग में खुशियों का मेला लेकर आया,
पटाखों की गूंज से पूरा आसमान गूंज उठा।
आज दिन दिवाली का आया
मिठाइयों की मिठास रिश्तो में घुल रही है,
सभी के गिले-शिकवे आज दूर हो रहे है।
आज दिन दिवाली का आया
हो रहे है सब भाव विभोर,
आज दिन खुशियों का आया।
आज दिन दिवाली का आया
दीपों की सुनहरी कतार सजेगी,
आज सभी के घर दीपावली मनेगी।


loading...

Post a Comment

0 Comments